“આ વિડિઓ એક સમજદાર માતાની નાસમજ દીકરી તરફથી જે હવે એક નાસમજ દીકરીની સમજદાર માતા પણ છે.” – વૈભવી જોષી.

ગુજરાત ટેક્નોલોજી બિઝનેસ ભારત સમાચાર

“આ વિડિઓ એક સમજદાર માતાની નાસમજ દીકરી તરફથી જે હવે એક નાસમજ દીકરીની સમજદાર માતા પણ છે.” સમજાય એમને સાદર અર્પણ 🙏🙏 તમામ માતાઓ પર લખેલી મારી એક રચનાનું નાટ્યરૂપાંતર આ વિડીઓમાં છે. આ રચનાનો પ્રયોગ મારી મમ્મી સાથે મેં વાસ્તવમાં કરેલો અને સાચા હૃદયથી માફી પણ માંગેલી અને એ પછી જ તમામ દીકરીઓને પ્રેરણા મળે એ હેતુથી આ વિડિઓ બનાવ્યો છે જેની લિંક 👇 નીચે આપી છે.

https://www.facebook.com/684210017/posts/10164788581450018/?d=n

આપનાં અમૂલ્ય સમયમાંથી માત્ર 7-8 મિનિટ ફાળવી 3 પેઢીની આ અર્થસભર યાત્રાનાં સાક્ષી જરૂર બનશો ખાસ કરીને આવનારી યુવા પેઢી તો ખાસ જોવે એવી આશા સાથે એક નિખાલસ કબૂલાત કે જાણ્યે અજાણ્યે કરેલી ભુલોનું આ માફીનામું દરેક મા ને સપ્રેમ ભેટ જે દરેક મા માત્ર એક દિવસ નહિ પણ આખી જિંદગી યાદ રાખશે. આ વાત વધારે લોકો સુધી પહોંચી શકે માટે લોકલાગણીને માન આપી આ વિડિઓ હિન્દી ભાષામાં કર્યો છે અને લખાણ પણ.

अगर आप साल भर अपनी माँ का सम्मान करते हे और उसकी खुशिया या जरूरतों का ध्यान हर एक दिन रखते हे और उसके ऊपर अगर आज आप अपनी माँ के लिए कुछ स्पेशल करना चाहते हे तो बेशक कीजिये। आप सब से खास कर आने वाली पीढ़ी से गुजारिश हे की इस विडिओ को जरूर देखे ताकि मेरी तरह कोई और नासमज बेटी अपनी माँ को समज ने में इतने साल न लगा दे।

मेने अपनी कविता की जो चंद पंक्तिया उपर video में कही थी वो पूरी कविता में post करू। हिंदी मेरी मातृभाषा नहीं फिर भी कोशीश की हे लिखने की तो अगर computer द्वारा लिखने में कोई गलती हो तो माफ़ी चाहूंगी।

प्रस्तुत हे कुछ गलतियों का इज़हार एक नासमज बेटी की तरफ से हर उस माँ के नाम जो आज समजती हे की उस की माँ हर कदम पर सही थी पर जब तक वो ये बात समज पाई तब तक उसकी खुद की बेटी वो सारी गलतिया दोहराने के लिए तैयार हे..!!

मुझे माफ़ कर देना माँ…!!

अपने बालो में colour या highlights करते करते,

तेरे भी बाल सफ़ेद हो चले हे, अगर में उसे भूल गई हु;

तो मुझे माफ़ कर देना माँ…

अपने माथे पे रंगबेरंगी मांग टिका सजाते सजाते,

तेरे माथे पे परेशानिओ की शिकन अगर में देख नहीं पाई;

तो मुझे माफ़ कर देना माँ…

अपनी आँखों में काजल या Mascara लगाते लगाते,

इन चश्मों के पीछे छुपी नम आँखे अगर मेने नज़र अंदाज़ कर दी हो;

तो मुझे माफ़ कर देना माँ…

अपने चहेरे पर branded makeup लगाते लगाते

तेरे चहेरे पर कब झुर्रिया आ गई अगर में वो देख नहीं पाई;

तो मुझे माफ़ कर देना माँ…

अपने कानो में लम्बी लम्बी earring पहनने के चक्कर में

कभी तेरी कोई बात अगर मेने सुनी-अनसुनी कर दी हो;

तो मुझे माफ़ कर देना माँ…

अपने होठो पर shades वाली lipsticks के बगैर बहार कदम भी नहीं रखा होगा,

पर मेरे मुँह से अगर कोई ऐसी बात निकल गई हो जिसने तेरे दिल को ठेस पहुचाई हो;

तो मुझे माफ़ कर देना माँ…

अपने गले में हिरे मोतीओ का हार सजाते सजाते,

तेरे गले में पड़ी वो एक सोने की चेन अगर मेरे ध्यान से निकल गई हो;

तो मुझे माफ़ कर देना माँ…

अपने हाथो के लिए सोने-चांदी के Bracelet खरीदते खरीदते,

तेरे हाथो में आज भी वोही दो पुराने कंगन हे अगर में उसे भूल गई हु;

तो मुझे माफ़ कर देना माँ…

अपनी उंगलियों में तरह तरह की rings बिठाई होगी मेने,

पर खाना बनाते वक्त कभी तेरी उंगलिया भी जली होगी अगर उसे में सहेला ना सकी;

तो मुझे माफ़ कर देना माँ…

अपनी कमर में चाबिओ का गुच्छा बड़े fashion से लगाती थी।

तेरे सर पे पड़े जवाबदारिओ के गुच्छे को अगर कभी हल्का नहीं कर पाई;

तो मुझे माफ़ कर देना माँ…

जब जब सोने का कमरबंध बंधवाया करती थी तुजसे।

तेरी उम्र के ढलते तेरी कमर के दर्द को अगर में महसूस नहीं कर पाई;

तो मुझे माफ़ कर देना माँ…

अपने पेरो में पायल की छमछम से दिल झूम उठता था मेरा।

पर कम्बख्त तेरे घुटने या एडीओ के दर्द को अगर में समज नहीं पाई;

तो मुझे माफ़ कर देना माँ…

मेने high heels की demand भी की होगी और तूने लाकर भी दिया होगा,

इतरा कर चलते हुए अगर उन heels के निचे तेरी ख्वाहिशे दब के रह गई हो;

तो मुझे माफ़ कर देना माँ…

तूने तो कभी कुछ माँगा नहीं क्यूंकि तू तो माँ हे ना, बस देना ही जानती हे।

आज “झील” सच्चे दिल से माफ़ी मांग रही हे अगर हो सके तो इन सारी;

नासमज़िओ के लिए मुझे माफ़ कर देना माँ….

मुझे माफ़ कर देना माँ..!!

A girl like me & many others who used to think that her mother was wrong in her early age & couldn’t understand her but by the time she realized that her mother has always been right, her own daughter is already thinking that her mother is wrong & not understanding her.

– Vaibhavi Joshi

TejGujarati