हवाओं में कुछ हलचल है,थोड़े समझदार हो जाइए । तूफान आने का अंदेशा है, थोड़े खबरदार हो जाइए ।

સમાચાર

हवाओं में कुछ हलचल है,थोड़े समझदार हो जाइए ।

तूफान आने का अंदेशा है, थोड़े खबरदार हो जाइए ।

बुझ ना जाए बेवक्त कहीं, जलते चराग़ इन हवाओं से,

इल्तिज़ा है सबसे यही कि, थोड़े होशियार हो जाइए ।

हरने आई ये बंद हवाएं, चैन ओ सुकून जिंदगी का,

सब कुछ छोड़ के पहले, ख़ुद के पहरेदार हो जाइए ।

उड़ने लगी रंगत देखो, इन कायनाती फिज़ाओं की,

कैद कर के ख़ुद को अब, घर में गुलज़ार हो जाइए ।

अजब है ये जंग जिंदगी की, जीत ना सकते दौड़ के,

ठहर के अपने मुक़ाम पे, जीत के दावेदार हो जाइए ।
शुभ रात्रि…..?

TejGujarati