कुछ झुकने की कला लावो, पहले खुद मे तुम, परिवर्तन आयेगा तुम मे जरूर, यही जीवन जीने की कला है – लेखक रमेश कुमार.

આંતરરાષ્ટ્રીય ગુજરાત ભારત સમાચાર

एक गीत ❤️से सबके लिये।

जिंदगी बहुत अनमोल हे , समझना होगा,
धैर्य, साहस, हँसकर हम सबको
जीना होगा।

कोई कुछ कहे या ना कहे, छोड़
देना सब झंझट,
जीवन बस गुजारना हर दिन तुम मुस्कुराकर ।।

वक्त बहुत कुछ सिखा देता है हर
कोई इंन्सान को,
कुछ बिना बैचैन होकर तुम हमेशा
नेक कर्म करो।।

सर्व प्रथम खुद को साबित करो तुम कितने सही,
हो तुम।बाद मे सही कदम लेना
तुम।।

कुछ झुकने की कला लावो, पहले
खुद मे तुम,
परिवर्तन आयेगा तुम मे जरूर,
यही जीवन जीने की कला है

लेखक रमेश कुमार
शुभचिंतक

TejGujarati