દહેજ – ભાગ્યાશ્રીબા વાઘેલા

આંતરરાષ્ટ્રીય કલા સાહિત્ય ગુજરાત ધાર્મિક લાઇફ સ્ટાઇલ સમાચાર

“जहेज -दहेज”.कल की ही बात है..(8/7/2019-सोमवार) दहेज के लिए एक बेटी ने जीवन कुरबान कर दिया. हालांकि, राजपुत की बेटी समशेर के घाव पडने पर भी नहीं डरती, पर ऐसे हद बेहद होने पर मन से मर ही जाया करती है. क्या बेटियों के मातापिता ता-उम्र देते ही रहे? क्या बेटिया इन्सान नहीं होती?जब कि ससुराल भी इतना पैसो से भरा है, फिर भी लिये ही जाते है, ये दौलत के भूखे….!ठीक ही गीत लिखा है “ये महलो ये तख़्त-ओ-“जहेज -दहेज”.कल की ही बात है..(8/7/2019-सोमवार) दहेज के लिए एक बेटी ने जीवन कुरबान कर दिया. हालांकि, राजपुत की बेटी समशेर के घाव पडने पर भी नहीं डरती, पर ऐसे हद बेहद होने पर मन से मर ही जाया करती है. क्या बेटियों के मातापिता ता-उम्र देते ही रहे? क्या बेटिया इन्सान नहीं होती?जब कि ससुराल भी इतना पैसो से भरा है, फिर भी लिये ही जाते है, ये दौलत के भूखे….!ठीक ही गीत लिखा है “ये महलो ये तख़्त-ओ-ताजो की दुनिया, ये दौलत के भूखे रवाजो की दुनिया! ये इंसान के दुश्मन समाजो की दुनिया, ये दुनिया अगर मिल भी जाए तो क्या… ये दुनिया अगर मिल भी जाए तो क्या…….?ताजो की दुनिया, ये दौलत के भूखे रवाजो की दुनिया! ये इंसान के दुश्मन समाजो की दुनिया, ये दुनिया अगर मिल भी जाए तो”जहेज -दहेज”.कल की ही बात है..(8/7/2019-सोमवार) दहेज के लिए एक बेटी ने जीवन कुरबान कर दिया. हालांकि, राजपुत की बेटी समशेर के घाव पडने पर भी नहीं डरती, पर ऐसे हद बेहद होने पर मन से मर ही जाया करती है. क्या बेटियों के मातापिता ता-उम्र देते ही रहे? क्या बेटिया इन्सान नहीं होती?जब कि ससुराल भी इतना पैसो से भरा है, फिर भी लिये ही जाते है, ये दौलत के भूखे….!ठीक ही गीत लिखा है “ये महलो ये तख़्त-ओ-ताजो की दुनिया, ये दौलत के भूखे रवाजो की दुनिया! ये इंसान के दुश्मन समाजो की दुनिया, ये दुनिया अगर मिल भी जाए तो क्या… ये दुनिया अगर मिल भी जाए तो क्या…….? क्या… ये दुनिया अगर मिल भी जाए तो क्या…….?

TejGujarati
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •